Immunity Power बढ़ाने के 3 शानदार उपाय

how to increase immunity

How to increase immunity (how to increase immunity in Hindi) | A to Z full information about this topic in Hindi only at www.jankariabhindime.com

नमस्कार दोस्तों,

स्वागत है आपका जानकारी अब हिंदी में के एक और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी से भरे आर्टिकल में।

दोस्तों, आज कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया संकट में है।

कोरोना वायरस दुनिया भर में 6 लाख से ज्यादा लोगों का भोग ले चूका है और न जाने यह संख्या कितनी और बढ़ेगी।

तो क्या यह सब खतरनाक और जानलेवा बीमारी से बचने का कोई उपाय नहीं है ?

जी बिलकुल है, कोरोना तो क्या कैंसर जैसी बड़ी बड़ी बीमारियों से बचने का तोड़ है “Immunity System”।

How to Increase Immunity

Immunity System

Immunity System हमारे शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र या Defense system है।

जो हमारे शरीर को किसी भी प्रकार के वायरस या बैक्टीरिया

या किसी भी प्रकार की बीमारी से बचने या लड़ने की ताकत प्रदान करता है।

हम विविध प्रकार के वायरस या बैक्टीरिया से घिरे हुए है,

अगर हमारे शरीर की Immunity System ही पूरी तरीके से fail हो जाये तो हम एक दिन भी जिन्दा नहीं रह सकते।

इस बात से हमे यह तो पता चला की हमारी Immunity Power हमारे लिए बहुत important है।

किसी भी बीमारी से बचने के लिए इम्युनिटी पावर बढ़ाना बहुत जरुरी है, आज

मै आपको बताऊंगा इम्युनिटी पावर बढ़ाने के 3 बेहतरीन तरीके। तो जुड़े रहे हमारे साथ।

How to increase immunity in Hindi

रोज करे योग और प्राणायाम

how to increase immunity in Hindi)

योग और प्राणायाम का हमारे पुराने ग्रंथों में बहुत महत्व बताया गया है

और जिसकी अहमियत का आज पूरे विश्व ने स्वीकार किया है।

ऐसे तो योग के कई फायदे है किन्तु सीधी भाषा में कहे तो योग हमारी आध्यात्मिक्ता की वृद्धि करने में

और हमारे शरीर का, मस्तिष्क का, हमारे विचारो का, emotions का, एक्शन्स का बैलेंस करने में बहुत उपयोगी है।

तो ये है 5 जबरदस्त प्राणायाम जो आपको आपकी Immunity Power बढ़ाने में बहुत असरकारक रहेंगे :

भस्त्रिका प्राणायाम

इसमें लम्बा गहरा श्वास लेकर बाहर छोड़ते है। भस्त्रिका प्राणायाम शरीर में वायु के प्रवाह को बढ़ावा देता है।

ये प्राणायाम तुरंत ही हमारे शरीर को Energized करता है।

भस्त्रिका प्राणायाम को 5 या 10 मिनट सामान्य रूप से नियमित करने से नाक और छाती की बीमारियाँ या कमजोरियाँ, कफ, एलर्जी और गले की सूजन दूर होती है।

वह न केवल जठराग्नि को बढाती है, किन्तु यह भूख और पाचनक्षमता को बेहतर बनाता है।

कपालभाती प्राणायाम

संस्कृत शब्द कपाल का अर्थ होता है “ललाट” और भाति का अर्थ होता है “प्रकाश”, जिसका सीधा अर्थ होता है “ज्ञान”।

इस प्राणायाम में लम्बा श्वास लेने के साथ पेट को फुलाते है और उसे झटके के साथ पेट अंदर लेकर छोड़ते है।

यह प्राणायाम शरीर का वजन कम करने के लिए बहुत असरदार है। कैंसर जैसे असाध्य

और बड़े रोगों में कपालभाति नियमित 20 से 30 मिनट करने से बहुत राहत मिलती है।

जो लोग स्वस्थ है वो भी नियमित 5 से 15 मिनट कपालभाति करे तो उनकी Immunity System और ताकतवर होती है।

और तो और यह कपालभाति प्राणायाम शरीर के किसी जगह के स्टोन

और गांठ, गैस, कब्ज, एसिडिटी, अर्थराइटिस, और हड्डियों के रोगो में लाभदायी है।

ऐसे यह प्राणायाम हमारे शरीर की किसी भी तरह की कमी की पूर्ति करता है।

अनुलोम विलोम

अनुलोम का अर्थ है “दाई नासिका” और विलोम का अर्थ होता है “बाई नासिका”।

अगर हम सरल भाषा में कहे तो अनुलोम विलोम मतलब दाई नासिका और बाई नासिका से श्वास लेने और छोड़ने की प्रक्रिया।

आप अनुलोम विलोम प्राणायाम को नियमित करने से वात, पित्त और कफ के रोगो में बड़ी राहत मिलती है।

यह प्राणायाम सामान्य रूप से नियमित 15 मिनट और असाध्य रोगो में 30 मिनट करना बहुत लाभदायी रहता है।

भ्रामरी प्राणायाम

भ्रामरी प्राणायाम में सबसे पहले लम्बा गहरा श्वास लेना होता है।

इसके बाद दोनों हाथ की पहली उंगलियों को मस्तक या ललाट पर रखना होता है, शेष तीन उँगलियाँ आँखो पर रखते है और कान अंगूठे से बंद करने होते है।

फिर हमारी नासिका के द्वारा ओम कार का नाद करना होता है। ओम कार की ध्वनि बोलने के बाद ही श्वास छोड़ना होता है।

यक़ीन मानिये यह सीधा सा प्राणायाम आपको खूब लाभदायी होगा।

भ्रामरी प्राणायाम को नियमित करने से तनाव दूर होता है, जो लोग डिप्रेशन का शिकार है उनके लिए यह प्राणायाम अत्यंत लाभदायी है।

इस प्राणायाम से हमारी Spirituality में बढ़ावा होता है

और शरीर और मन दोनों में शांति का अनुभव होता है। भ्रामरी प्राणायाम नींद न आना, माइग्रेन जैसे मानसिक रोग में असरदार इलाज है।

उद्गीत प्राणायाम :

यह सबसे सरल प्राणायाम है।

उद्गीत प्राणायाम में आँखे बंद होती है, दोनों हाथ ध्यान मुद्रा में होते है यानि पहेली ऊँगली और अंगूठे का सबसे ऊपर का भाग मिले हुए होते है।

इस प्राणायाम में लम्बा श्वास लेते है और ओम कार की ध्वनि के साथ श्वास बहार छोड़ते है (इसमें ओ का लंबा उच्चारण करते है और म का छोटा)।

सभी प्रकार के मानसिक रोगों, तनाव, हृदयरोग, नींद न आना, माइग्रेन, जैसे कई रोगो में यह प्राणायाम अत्यंत लाभदायी है।

अब में बताने जा रहा हूँ, सबसे असरदार और दमदार योग आसन “सूर्य नमस्कार” के बारे में।

सूर्य नमस्कार :

अगर आपके पास ज्यादा समय नहीं है, और आप अपने शरीर को तंदुरस्त रखना चाहते है तो सूर्य नमस्कार आपके लिए Best है।

सूर्य नमस्कार का सरल शाब्दिक अर्थ है सूर्य को नमन करना।

दोस्तों, पृथ्वी पर सूर्य के बिना हम जीवित नहीं रह सकते

इसीलिए सूर्य के प्रति आभार व्यक्त करने और शरीर को तंदुरस्त रखने के हेतु से सूर्य नमस्कार किया जाता है।

आप सूर्य नमस्कार आप किसी भी समय कर सकते है लेकिन, इसे सुबह के समय करना सबसे बेहतर होता है क्योंकि,

सुबह के वक्त यह मन और शरीर को ऊर्जा से भर देता है और हमे दिनभर के कार्यों के लिए तैयार कर देता है।

आप सूर्य नमस्कार में कुल 12 आसन होते है, इन आसनों के अलग-अलग नाम होते है।

तो यह रहे उन आसनों के नाम :

1) प्रणाम आसन,

2) हस्त उत्तानासन,

3) हस्तपाद आसन,

4) अश्व संचालन आसन,

5) दंडासन,

6) अष्टांग नमस्कार,

7) भुजंगासन,

8) पर्वत आसन,

9) अश्व संचालन आसन,

10) हस्तपाद आसन,

11) हस्तउत्थान आसन,

और 12) ताड़ासन.

सूर्य नमस्कार नियमित रूप से करने से हमारे शरीर में खून का संचरण बेहतर रहता है और शरीर रोग मुक्त रहता है।

सूर्य नमस्कार से हमारा ह्रदय, यकृत (लिवर), पेट, छाती, गला, पैर, जैसे शरीर के सभी अंगो को बहुत लाभ होता है।

और तो और इसे करने से शरीर में लचीलापन आना, तनावमुक्त होना, रीढ़ की हड्डिया मजबूत होना, मोटापा दूर होना, त्वचा में निखार आना, एकाग्रता में वृद्धि होना जैसे कई फायदे होते है।

हमारी तो आपसे यही गुजारिश की योग और प्राणायाम करिये तन और मन दोनों से तंदुरस्त रहिये।
सेहतमंद खाना खाये (हो सके तो करें औषधियों का सेवन) :

दोस्तों, हमारी Immunity System के कमजोर होने की सबसे बड़ी वजह है हमारे खाने में Nutrition की कमी होना।

तो अब मैं बताने जा रहा हूं, हमारी Immunity Power को बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ और औषधियों के बारे में।

how to increase immunity in Hindi)

आंवला :

आंवला विटामिन C का मुख्य स्त्रोत है।

इसकी खास बात यह है की इसे किसी भी तरह से खाया जा सकता है, जैसे की उसका रस बनाके पिया जा सकता है, उसकी सब्जी बनाए जा सकती है, इत्यादि।

अदरक :

अदरक में प्रोटीन, आयरन, कैल्शियम जैसे तत्वों की भरमार है। सर्दी-खांसी जैसे रोगो में यह रामबाण इलाज है

क्योंकि, यह सर्दी-खांसी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार गिरता है। इसको अलग-अलग तरीके से अपने खाने में शामिल किया जा सकता है।

हल्दी : (How to increase immunity in Hindi)

हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी फंगल, और एंटीसेप्टिक जैसे तत्व वाले कई सारे औषधीय गुण पाए जाते है।

उसकी वजह से इसका नियमित सेवन हमे न केवल सर्दी-खांसी किन्तु बड़ी गंभीर बीमारियों से भी बचा सकता है और हमारा Immunity Power को Boost कर सकता है।

गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन हवामान बदलने से होने वाले रोगो से बचाता है।

अश्वगंधा :(How to increase immunity in Hindi)

Immunity System को मजबूत बनाने में अश्वगंधा का महत्वपूर्ण स्थान है। इसका चूर्ण गरम पानी में मिलाकर या गरम दूध में मिलाकर पीना बहुत लाभदायी है।

इस औषधि का नियमित सेवन आंखों की ज्योति को बढ़ाता है। गले के रोग, पेट के रोग, छाती के रोग में राहत देता है और इसका चूर्ण टी.बी. जैसे बड़े रोगो में भी अत्यंत लाभदायी है।

गिलोय (How to increase immunity in Hindi)

औषधि गिलोय एक जबरदस्त औषधि है जिसे अमृता भी कहा जाता है, कुछ औषधि विशेषज्ञों के अनुशार Immunity Power बढ़ाने के लिए गिलोय से बेहतर कोई चीज नहीं है।

गिलोय में एंटीऑक्सीडेंट की भरमार है, यह रक्त को शुद्ध करता है और बैक्टीरिया-वायरस को नष्ट करता है।

इसके अलावा विविध फल और हरी सब्जियां भी आपकी Immunity Power को बढ़ाता है।

अपनी लाइफस्टाइल में लाएं सुधार (How to increase immunity in Hindi)

अगर आप सेहतमंद खाना खाते है और आप थोड़ा बहुत योग-प्राणायाम करते है किन्तु आप की दिनचर्या या लाइफस्टाइल ही अच्छी नहीं है

तो आप की Immunity System में कोई बदलाव नहीं आता है, बल्कि वह और कमज़ोर हो जाएगी। इसका मतलब यह तीनो उपाय एक दूसरे के पर्याय है।

तो अब में बताऊंगा की कैसे हम हमारी लाइफस्टाइल थोड़ा बदलाव कर अपनी Immunity System को मजबूत बना सकते है।

हमें हर रोज सुबह उठकर गर्म पानी पीना चाहिए,

और अपने आप को पूरा दिन एक्टिव रखने के लिए रोज सुबह व्यायाम करना चाहिए।

खाने में सलाद का उपयोग जरूर करना चाहिए, और प्रोटीन के लिए कठोद का उपयोग करना चाहिए।

घर में बना शुद्ध खाना ही हमारे Immunity System को मजबूत करता है,

जबकि जंक फ़ूड कमजोर, इसलिए घर का खाना ही खाएं।

दोस्तों, Immunity System को मजबूत करने के लिए सबसे जरूरी है मन की प्रसन्नता।

तन के साथ मन का स्वस्थ होना भी खूब महत्वपूर्ण है।

जीवन में व्यसनों से दूर रहने वाला मनुष्य ही तन और मन की तंदुरस्ती पाता है,

इसलिए जितना हो सके व्यसनों से दूरी बनाए रखें।

लगभग 7 से 8 घंटे की नींद लेना जरूरी है, जिससे हमारा शरीर re-charge हो सके।
इतनी चीज अपने जीवन में करें और बाकी का काम आपका शरीर कर देगा।

तो दोस्तों, ये थे Immunity Power बढ़ाने के 3 जबरदस्त तरीके।

हम आशा करते है की यह आपके लिए जरूर Useful होंगे।

हमारे और लेख जो आपको जरूर पसन्द आयेंगे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*